(फॉर्म) मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन, पात्रता व लाभार्थी सूची

Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana Form | Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana Apply | उत्तराखंड मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना आवेदन प्रक्रिया | मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना एप्लीकेशन फॉर्म | Mukhyamantri Vatsalya Yojana Online Registration

देश के सभी लोग जानते होंगे कि इस टाइम पूरे भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी तेजी से फैल चुका है। और कई सारे ऐसे बच्चे जिनके माता पिता की मृत्यु कोविड-19 के कारण हो गई है। उन बच्चों को आर्थिक सहायता देने के लिए सभी राज्य सरकारें आगे आयी है। अभी हालही में उत्तराखंड सरकार ने ” मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना” को राज्य में शुरू किया है। इस योजना के तहत देवभूमि उत्तराखंड में जिन बच्चों के माता-पिता की मृत्यु कोरोना वायरस (Covid-19) की वजह से हुई है। उन सभी अनाथ बच्चों को भत्ता के रूप में 3000 रुपए की पेंशन और खाने पीने के लिए राशन पानी आदि का इंतजाम सरकार द्वारा किया जाएगा।

यदि आपके पड़ोस में कोई ऐसे बच्चे जिनकी माता पिता की मृत्यु कोरोना वायरस से हुई है,तो आप सभी इस दुख की घड़ी में उन सभी अनाथ बच्चों के लिए Mukhyamantri Vatsalya Yojana का लाभ ले सकते है। यह योजना अनाथ बच्चों के लिए बहुत ही लाभदायक योजना है। नीचे लेख में हम आपको बताएंगे कि कैसे आप लोग उत्तराखंड कोविड-19 अनाथ बच्चा पेंशन योजना आवेदन, आवश्यक दस्तावेज, पात्रता, आदि की जानकारी प्राप्त करने के लिए उत्तराखंड के नागरिकों को यह लेख अंत तक ध्यान पूर्वक पढ़ना होगा।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2022

सबसे पहले तो राज्य के लोगों को यह बता दे की  मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की शुरुआत तीरथ सिंह रावत जी द्वारा 22 मई 2021 को की गई है। अब राज्य द्वारा शुरू की गई योजना के तहत प्रत्येक व्यक्ति जो उत्तराखंड राज्य में निवास करते हैं वह सभी अपने आस-पड़ोस जिनके सामने 22 वर्ष से कम आयु के बालक बालिकाओं के माता-पिता का देहांत कोरोनावायरस के चलते हुआ है। वह सभी अनाथ बच्चों के लिए Mukhyamantri Vatsalya Yojanaमें आवेदन करके बच्चों को लाभ दिला सकते हैं।

आपकी सरकार ने तय किया है कि प्रदेश के सभी ऐसे बच्चे, जिन्होंने कोविड-19 महामारी से अपने माता-पिता को खोया है, उन सभी की जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। इसके लिए हम ‘मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना’ लेकर आए हैं: उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत (फाइल तस्वीर) pic.twitter.com/5oVpiY4xT4

— ANI_HindiNews (@AHindinews) May 22, 2022

Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Scheme 2022

यदि राज्य में अनाथ बच्चों के रिश्तेदार इस योजना में आवेदन करके योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं इसके लिए सरकार ने कुछ पात्रता रखी है जिन्हें आपको पूरा करना है। योजना के अंतर्गत अगर कोरोना वायरस संक्रमण से बच्चों की माता पिता की मृत्यु हुई है ,और माता या पिता दोनों में से एक किसी सरकारी नौकरी में कार्य करते थे उनके बच्चों को इस Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana के लिए पात्र नहीं माना जाएगा। योजना के तहत आवेदन कर के लाभ केवल उन बच्चों को प्रदान किया जाएगा। जो बीपीएल श्रेणी के अंतर्गत आते हो।

Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana के मुख्य बिंदु

लेख Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana
 राज्य उत्तराखंड
 किनके द्वारा शुरू की गई मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत जी  के द्वारा
उद्देश्य आर्थिक सहायता प्रदान कराना
 लाभार्थी जिन बच्चों के माता पिता की मृत्यु कोविड-19 से हुई है
  सम्बंधित विभाग समाज कल्याण विभाग एवं श्रम विभाग
 पेंशन राशि 3000 रुपए हर महीने
 आवेदन प्रक्रिया ऑफलाइन
 आधिकारिक वेबसाइट जल्द शुरू होगी

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का उद्देश्य

उत्तराखंड सरकार द्वारा शुरू की गई योजना का मुख्य उद्देश्य यह है कि कोविड-19 से जिन बच्चों के माता-पिता का देहांत हो गया है, उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान कराने के लिए 3000 रुपए पेंशन हर महीने और राशन, स्कूल में पढ़ाई आदि राज्य सरकार द्वारा की जाएगी। अब राज्य में ऐसे परिवार जिनके माता-पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे उनके पालन पोषण और दैनिक खर्चे के लिए सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता दी जाएगी।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2022 के तहत आर्थिक सहायता

आप सभी जानते होंगे कि उत्तराखंड सरकार ने हल ही में मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना की घोषणा की है। इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार अनाथ हुए बच्चों को आर्थिक सहायता के रूप में तीन हजार रुपए की धनराशि प्रदान कराने जा रही है। राज्य सरकार ने योजना को शुरू करते समय यह कहा था कि जिन बच्चों के माता-पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे ऐसे बच्चों को सरकारी नौकरियों में 5% की छूट प्रदान की जाएगी। और पालन-पोषण के लिए खाने पीने की व्यवस्था आदि सरकार की तरफ से की जाएगी। Mukhyamantri Vatsalya Yojana योजना का लाभ लेने के लिए बच्चों की रिश्तेदारों को इस योजना के तहत आवेदन करना होगा।

Mukhyamantri Vatsalya Yojana की घोषणा

जैसा कि हमने आपको अपने लेख के माध्यम से बताया कि उत्तराखंड सरकार इस Mukhyamantri Vatsalya Yojana 2022  का लाभ माता-पिता या अभिभावकों की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है। ऐसे बच्चों को सरकार ने योजना के लिए पात्र बनाया है। लेकिन हाल ही में उत्तराखंड की सरकार ने इस योजना में कुछ बदलाव किये हैं, पहले इस योजना का लाभ उन सभी बच्चों को प्रदान किया जा रहा था जिनके माता-पिता की मृत्यु कोविड-19 यानी कि कोरोनावायरस संक्रमण से हुई है। अब राज्य सरकार मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत उन सभी बच्चों जिनके माता या पिता दोनों में से एक की मृत्यु पहले की किसी अन्य कारण से हो गई है और आप एक की मौत कोविड-19 से हो गई हो ऐसे बच्चों को भी योजना के लिए पात्र बनाया गया है।

Uttarakhand Vatsalya Yojana 2022 की विशेषताएं

  • इस मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत कोरोनावायरस महावारी के तहत जिन्होंने अपने अभिभावक या माता-पिताको खोया है, उन्हें 21 वर्ष होने तक भरण पोषण व शिक्षा व्यवस्था के लिए सरकार प्रतिमा 3000 रुपए का भत्ता देगी।
  • इन बच्चों की पैतृक संपत्ति को इनके वयस्क होने तक कोई बेच नहीं पाएगा। जिससे भविष्य में वह अपनी संपत्ति का उपयोग कर सकें। इसकी देखरेख की जिम्मेदारी उस जिले के जिलाधिकारी की होगी।
  • बच्चों को सरकारी नौकरी में 5% क्षैतिज आरक्षण उत्तराखंड सरकार प्रदान करेगी। जिससे वह आराम से नौकरी पाकर अपनी जिंदगी का गुजर-बसर अच्छे से कर सकें।
  • ₹3000 का भरण-पोषण भत्ता उन बच्चों को भी मिलेगा जिनके परिवार में कमाने वाला एकमात्र मुखिया था और जिसकी मृत्यु कोरोनावायरस के संक्रमण से हुई हो।
  • सरकार ने इस महत्वकांक्षी योजना का नाम मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना दिया है।

उत्तराखंड वात्सल्य योजना से मिलने वाले लाभ

  • इस योजना का लाभ केवल उन अनाथ बच्चों को दिया जाएगा जिनकी माता पिता की मृत्यु कोविड-19 से हुई हो।
  • योजना के तहत अनाथ बच्चों को हर महीने 3000 रुपए की पेंशन दी जाएगी।
  • उत्तराखंड वात्सल्य योजना में आवेदन कर के लाभ केवल 21 वर्ष से कम आयु के बालक बालिकाएं उठा सकती है।
  • राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई योजना के माध्यम से प्रत्येक अनाथ बच्चे को मुफ्त शिक्षा भी दी जाएगी।
  • योजना का लाभ प्राप्त करके अनाथ बच्चे अपनी पढ़ाई करके अपने पैरों पर खड़े हो सकते हैं।
  • इस Mukhyamantri Vatsalya Yojana 2022 के अंतर्गत खाद्य पदार्थ जैसे, गेहूं दाल, चावल, आदि भी दिया जाएगा।

 वात्सल्य योजना 2022 की पात्रता 

जैसा कि हमने आपको ऊपर लेख ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई इस स्कीम के तहत आवेदन करने से पहले आपको नीचे दी गई पात्रता को पूर्ण करना होगा।

  • इस योजना में आवेदन केवल उत्तराखंड राज्य के निवासी ही कर सकते हैं।
  • वह अनाथ बच्चे जिनके माता-पिता का देहांत कोविड-19 कोरोना वायरस से हुआ होगा उन्हें योजना के अंतर्गत पात्र माना जाएगा।
  • राज्य में जिन बच्चों के अभिभावकों की मृत्यु मार्च महीने के बाद हुई है वह सभी लाभार्थी योजना के तहत आवेदन कर सकते है।
  • वात्सल्य योजना 2022 के तहत माता या पिता दोनों में से एक किसी सरकारी नौकरी के हकदार थे उन बच्चों को योजना का लाभ नहीं दिया जाएगा।
  • योजना के अंतर्गत बच्चों की उम्र 21 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana के आवश्यक दस्तावेज

यदि आप योजना के तहत आवेदन करके लाभ प्राप्त करना चाहते हैं,तो आपके पास आवेदन करते समय नीचे दिए गए सभी प्रकार के आवश्यक दस्तावेजों का होना बहुत ही जरूरी है।

मूल निवासी प्रमाण अनाथ बच्चों का आधार कार्ड
  बच्चों का आयु प्रमाण पत्र  राशन कार्ड
बच्चे के फोटो  आय प्रमाण पत्र
 बैंक पासबुक  कोविड-19 के कारण पिता और माता का मृत्यु प्रमाण पत्र

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2022 में ऑफलाइन आवेदन कैसे करें

  • अगर आप लोग Uttarakhand Mukhyamantri Vatsalya Yojana 2022 के तहत आवेदन करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए चरणों का पालन करें।
  • सबसे पहले आपको अपनी नजदीकी ब्लॉक, ग्राम पंचायत,आदि के कार्यालय में जाना होगा।
  • कार्यालय में पहुंचने के बाद आपको अधिकारी से योजना का आवेदन फॉर्म मांगना होगा।
  • यदि आपने आवेदन फॉर्म प्राप्त कर लिया है, आप पहले आवेदन फॉर्म अच्छे से पढ़ ले और उसके बाद आवेदन फॉर्म में दी गई सभी प्रकार की जानकारी जैसे , माता पिता का नाम , डिस्ट्रिक्ट, तहसील, पिन कोड,आदि।
  • application form में पूछी गई सभी प्रकार की जानकारी दर्ज करने के बाद आपको अपने सभी आवश्यक दस्तावेजों की फोटोकॉपी को भरे हुए आवेदन फॉर्म के साथ अटैच करना होगा।
  • उसके बाद अपने जिस भी कार्यालय से आवेदन फॉर्म प्राप्त किया था वही जाकर जमा करवा देना है।
  • जमा करवाने के बाद अधिकारी द्वारा आपके आवेदन फॉर्म और सभी आवश्यक दस्तावेजों की जांच की जाएगी।
  • आवेदन जांच की प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपको उत्तराखंड मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का लाभ दे दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना में ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

अगर आप लोग योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं,तो आपको अभी थोड़ा इंतजार करना होगा। क्योंकि अभी राज्य सरकार ने इस योजना में केवल ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया दी है। जैसे ही हमें ऑनलाइन आवेदन की जानकारी मिलेगी हम आप तक जरूर पहुंचाएंगे।

Tags related to this article
Categories related to this article
Uttrakhand Scheme

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top