मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना: ऑनलाइन आवेदन, पंजीकरण स्टेटस (કિસાન સહાય)

Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana Gujarat Apply | Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana Application Form PDF | मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना ऑनलाइन आवेदन  | Gujarat Kisan Sahay Yojana Online Form | मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना पंजीकरण स्टेटस

गुजरात सरकार प्रदेश के किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए कई सारी योजनाओं की शुरुआत करती आ रही है। अभी हाल ही में राज्य सरकार ने प्रदेश के किसानों की फसल में हो रहे नुकसान पर इस “मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना” को शुरू किया है। इस योजना के माध्यम से किसानों की फसल पर नुकसान जैसे ओले गिरने, तेज बारिश आना, बाढ़ आदि से फसल का नुकसान होने पर किसानों को आर्थिक सहायता के रूप में मुआवजा प्रदान कराया जा रहा है।Mukhyamantri Kisan Sahay Scheme के अंतर्गत यदि किसानों की फसल 33 % से 60 % तक बर्बाद होती है,तो ऐसे किसानों को योजना का लाभ दिया जाएगा।इस Gujarat Kisan Sahay Yojana के अंतर्गत प्रदेश सरकार सभी किसान भाइयों को 20,000 रुपए का मुआवज़ा प्रदान करती है। गुजरात राज्य के जो किसान भाई मुआवजा राशि प्राप्त करना चाहते हैं उन्हें योजना के तहत पंजीकरण करना होगा।

 Gujarat Kisan Sahay Yojana -કિસાન સહાય યોજના

जैसा कि हमने आपको ऊपर लेख में बताया कि गुजरात सरकार द्वारा शुरू की गई इस मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत जिन किसानों की फसलें बारिश ओले पड़ने से खराब हो जाती है, ऐसी स्थिति में किसानों को अधिकतम चार हेक्टेयर के लिए प्रति हेक्टेयर 20,000 रुपये प्रदान किये जाते है। योजना के तहत कृषि उपज में अधिक नुकसान होने पर किसानों को मुआवजा अलग अलग तरीके से प्रदान कराया जाता है। जैसे कि 60%से अधिक नुकसान होने पर किसानों को 25,000 रुपये का मुआवज़ा सरकार के द्वारा दिया जाता है और 33 परसेंट से लेकर 60 परसेंट तक के नुकसान पर लाभार्थी किसानों को बिस हजार रुपए का मुआवज़ा दिया जाएगा। Gujarat Kisan Sahay Yojana के तहत मुआवजा राशि किसानों को तब प्रदान की जाती है ,जब प्राकृतिक आपदा के कारण फसलों का नुकसान होता है।

Highlights of Kisan Sahay Yojana Gujarat

लेख मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना
 राज्य गुजरात
 शुरू की गई मुख्यमंत्री विजय रूपाणी जी के द्वारा
 लाभार्थी राज्य के किसान
 उद्देश्य किसानो को मुआवज़ा प्रदान करना
 मुआवज़ा राशि 20 हजार से 25 हजार रूपये
 आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन,ऑफलाइन
 आधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें

मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना 2021का उद्देश्य

वैसे तो आप सभी लोग जानते हैं कि आजकल के समय में मौसम का कोई पता नहीं कि कब बारिश और कब आंधी तूफान आ जाए। इस आंधी तूफान और बारिश और ओले गिरने का नुकसान तो सिर्फ किसान भाइयों को ही होता है। क्योंकि जब किसानों की फसल हरी-भरी नजर आती है, पर एकदम से, तेज बारिश ओले गिरना, काफी तेज मात्रा में तूफान आना, ऐसी स्थिति में किसानों की फसलें नष्ट हो जाती है। ऐसे में किसान भाइयों को काफी नुकसान झेलना पड़ता है। कई सारे किसान तो मेहनत करने के बाद अंदर से बिल्कुल टूट जाते हैं, ऐसी आपदाओं के कारण नष्ट हुई फसलों की भरपाई के लिए गुजरात की सरकार ने राज्य के किसानों के लिए गुजरात मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना की शुरुआत की है। ताकि किसान भाइयों को बर्बाद हुई फसलों पर आर्थिक सहायता मिल सके।

“ મુખ્યમંત્રી કિસાન સહાય યોજના “ pic.twitter.com/VbrrAPellR

— Vijay Rupani (@vijayrupanibjp) August 10, 2020

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत किन परिस्थितियों में सहायता दी जाएगी

सूखा पड़ने पर – अगर किसानों की फसलों पर सूखा पड़ जाता है, तो ऐसी स्थिति में फसल का नुकसान होने पर किसानों को मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत किसी अन्य जिलों में भारी बारिश और कहीं और जिले के अंदर बारिश ना होने की वजह से किसान इस योजना में क्लेम कर सकते हैं।

बेमौसम बारिश होने पर – यदि गुजरात राज्य में अचानक से बारिश, ओले गिरना, आंधी तूफान काफी तेज होने पर किसानों की फसल पर कोई नुकसान होता है,तो ऐसी स्थिति में किसान भाई मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत क्लेम कर सकते हैं।

काफी तेज मात्रा में बारिश का आना – अगर गुजरात राज्य के किसी क्षेत्र में लगातार 2 दिन तक बारिश होती है और किसानों की फसल नष्ट हो जाती है ऐसी स्थिति में किसान इस योजना के तहत आवेदन करके लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

गुजरात किसान सहाय योजना के लाभ व विशेषताएं

  • इस योजना के तहत जिन क्षेत्रों में बेमौसम बारिश ,बाढ़, भूस्खलन,ओले आदि के कारण फसलों का नुकसान होता है राज्य सरकार इसे किसानों को मुआवजा प्रदान कराया जाता है।
  • यदि राज्य में किसानों की फसल 33% से 60% तक खराब होती है,तो 20,000 रुपए प्रति हेक्टेयर के हिसाब से प्रदान कराई जाती है।
  • किसानो को 60 % से अधिक नुकसान पर अधिकतम चार हेक्टेयर के लिए प्रति हेक्टेयर 25,000 रुपये का मुआवज़ा दिया जाएगा।
  • Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana के तहत ख़ासतौर पर खरीफ़ के मौसम में बारिश में अनियमितता के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई प्रदेश सरकार की और से की जाती है।
  • इस योजना का लाभ करीब 56 लाख किसानों को प्रदान किया जाएगा।जोकि सब गुजरात राज्य से निवास करते हैं।
  • गुजरात के किसी भी किसानो को इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए भुगतान नहीं करना पड़ेगा।

किसान सहाय योजना के लिए पात्रता

  • इस योजना के लिए किसान को गुजरात का स्थायी निवासी होना आवश्यक है।
  • प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसलों के नुकसान होने पर ही किसानों को योजना के तहत मुआवजा प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना में आवेदन केवल किसान ही कर सकते हैं। और व्यक्ति योजना के लिए पात्र नहीं होंगे।
  • इस योजना के अंतर्गत राज्य भर में राजस्व रिकॉर्ड में पंजीकृत सभी 8-ए धारक किसान खाताधारक और वन अधिकार अधिनियम के तहत मान्यता प्राप्त किसानों को ही पात्र माना जाएगा।
  • मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना (કિસાન સહાય) के द्वारा खरीफ 2020 सीजन में किसानो को ही लाभ दिया जाएगा।

Mukhyamantri Kisan Sahay Yojana के लिए दस्तावेज़

इस योजना के तहत मुआवजा राशि प्राप्त करने के लिए आप सभी किसानों के पास नीचे दिए गए सभी प्रकार के आवश्यक दस्तावेजों का होना जरूरी है।

आधार कार्ड  जमीन के कागजात
वोटर आईडी कार्ड आयु प्रमाण पत्र
 निवास प्रमाण पत्र  मोबाइल नंबर
बैंक अकाउंट पासपोर्ट साइज फोटो

मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना (કિસાન સહાય) में आवेदन की प्रक्रिया

गुजरात राज्य के जो किसान भाई राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई Mukhyamantri Kisan Sahay Scheme के तहत आवेदन करके लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें अभी थोड़ा इंतजार करना होगा। क्योंकि प्रदेश सरकार ने अभी योजना की घोषणा की है, जैसे ही गुजरात सरकार इस योजना के लिए आवेदन आमंत्रित करेगी हम सबसे पहले आपको अपने इस लेख के माध्यम से अपडेट करेंगे। मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना में सरकार जल्द ही आधिकारिक वेबसाइट शुरू करेगी तब आप सभी पात्र किसानों को मुआवजा राशि प्रदान कराई जाएगी। योजना की अपडेट के लिए हमारी वेबसाइट पर विजिट करते रहे।

मुख्‍यमंत्री किसान सहाय योजना (કિસાન સહાય) लाभार्थी सूची

  • इस योजना के तहत लाभार्थी किसानो की सूची को राजस्व विभाग, गुजरात सरकार के द्वारा जारी की जाएगी।
  • पहले , डीसी (जिला कलेक्टर) तालुका ,गांवों की सूची तैयार करेंगे जिनकी फसलें सूखे, भारी वर्षा के कारण नष्ट हुई है।
  • उसके बाद 7 दिनों केअंदर राजस्व विभाग को सूची भेज दी जाएगी। एक विशेष सर्वेक्षण टीम 15 दिनों के अंदर किसानों की फसलों को नुकसान की समीक्षा करेगी।
  • समीक्षा सफल होने के बाद, जिला विकास अधिकारी द्वारा हस्ताक्षरित आदेश द्वारा लाभार्थी किसानों की सूची की घोषणा कर दी जाएगी।
  • इस सूची को किसानो के नुकसान के आधार पर दो प्रकार 33% से 60% और 60% से अधिक की हानि के अनुसार लागु की जाएगी।

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत बेनिफिशियरी लिस्ट तैयार की जाने की प्रक्रिया

  • मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना के तहत बेनिफिशियरी लिस्ट जिला कलेक्टर तालुका/ गांव के उन सभी लोगों की सूची तैयार की जाएगी जिन की फसल को सूखे, भारी वर्षा या फिर ने मौसमी वर्षा के कारण नुकसान हुआ हो।
  • इस सूची के बन जाने के बाद उसे राजस्व विभाग के साथ साझा किया जायेगा, अब राजस्व विभाग के द्वारा 15 दिन के अंदर एक सर्वे टीम बनायीं जाएगी।
  • प्रक्रिया सफल होने के बाद डिस्टिक डेवलपमेंट ऑफिसर अपने द्वारा साइन की गई बेनेफिशरी फार्मर सूची घोषित करेगा।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top