Gehu Kharid Registration UP 2022-23, eproc.up.gov.in Wheat 2021-22 Login

गेहूं खरीद रजिस्ट्रेशन 2021-22 up- यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण | eproc.up.gov.in registration 2021-22

कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के किसानों की गेहूं खरीद के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान करा रही है। जिसके लिए उन्होंने ई-क्रय प्रणाली किसान पंजीकरण (ई उपार्जन) पोर्टल की शुरुआत की है। इस पोर्टल को उत्तर प्रदेश खाद्य एवं रसद विभाग ई-क्रय प्रणाली के सहयोग से प्रारंभ किया गया है। ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से उत्तर प्रदेश के किसान को अपना पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण कराने के बाद किसान अपनी रवि की फसल (गेहूं) को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर सरकारी एजेंसियों को आराम से बेच सकते हैं। आज हम आपको उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा संचालित यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी देंगे। अतः आपसे निवेदन है कि हमारे इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़े।

ई-क्रय प्रणाली उत्तर प्रदेश 2022

पूरे देश में कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 15 अप्रैल 2020 से ई-क्राय केंद्रों पर इस योजना के तहत गेहूं खरीद की प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गेहूं खरीद की प्रक्रिया सिर्फ 15 मई तक की जाएगी। राज्य के जो किसान भाई कोविड-19 संक्रमण के बीच अपनी फसल को बेचना चाहते है। तो वह खाद्य एवं रसद विभाग की ई – क्रय प्रणाली की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर अपना पंजीकरण कर सकते है। राज्य सरकार अप्रैल से रबी सीजन फसल 2020-21 गेहूं की खरीद के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू करेगी। 15 अप्रैल से आप इस पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते है  |

यह भी पढ़ें:-

पारदर्शी किसान सेवा योजना

उत्तर प्रदेश गौशाला योजना 

उत्तर प्रदेश किसान कर्ज माफ़ी लिस्ट

इस योजना के तहत 3,99,935 किसानों से की गई गेहूं खरीद

हम सब जानते हैं जी केंद्र सरकार और राज्य सरकार किसानों को लाभ देने के लिए अनेक प्रकार की योजनाएं लाती रहती हैं। कोविड-19 के संक्रमण के चलते उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किसानों से गेहूं खरीद की प्रक्रिया चालू है। अब तक राज्य सरकार द्वारा 20.50 लाख मैट्रिक टन गेहूं की खरीद लगभग 3,99,935 किसानों से की गई है। प्रदेश में गेहूं खरीदने की जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 11 एजेंसीयो को दी गई है। जिसके तहत चार एजेंसियों ने कोई क्रय केंद्र संचालित नहीं किया है। राज्य में 3252 केंद्र सहकारी संघ के माध्यम से संचालित किए गए हैं। जिसके अंतर्गत लगभग 9 लाख मैट्रिक टन गेहूं की खरीद सरकार द्वारा की जा चुकी है। राज्य सरकार के माध्यम से उत्तर प्रदेश में कुल 5612 क्रय केंद्र स्थापित हुए हैं।

इसी के साथ राज्य कृषि उत्पादन मंडी परिषद द्वारा 48 जिलों में 110 गेहूं खरीद केंद्र स्थापित किए जा चुके हैं। इन केंद्रों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रुपए प्रति क्विंटल की दर निर्धारित की गई है। जिससे 46982 मैट्रिक टन गेहूं की खरीद की जा चुकी है। इस योजना के तहत 8523 किसानों को 92.78 करोड़ रुपए का भुगतान भी गेहूं खरीद पर किया जा चुका है।

UP Gehu Kharid होगी प्रारंभ

उत्तर प्रदेश सरकार ने 29 जनवरी 2022 को गेहूं खरीद की शुरुआत करने के निर्देश दिए हैं। यूपी सरकार ने कहा है कि 1 अप्रैल से न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर गेहूं की खरीद की जाएगी। सरकार द्वारा गेहूं खरीद पर किसानों को क्रय केंद्र पर किसी भी दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा। उत्तर प्रदेश के खाद्य आयुक्त मनीष चौहान ने कहा कि गेहूं का समर्थन मूल्य इस साल 1975 रुपए प्रति कुंटल तय किया गया है। समय सारिणी एवं प्रस्तावित क्रय नीति के अधिकारियों के साथ उत्तर प्रदेश केमुख्यमंत्री द्वारा गेहूं खरीद 2022- 2022 के संबंध में एक मीटिंग की गई।

इस मीटिंग में मुख्यमंत्री द्वारा यह निर्देश दिए गए कि जल्द गन्ना किसानों जैसे गेहूं किसानों को भी ऑनलाइन पर्ची की सुविधा प्रदान की जाएगी।उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि वे सभी क्रय एजेंसी जिनका रिकॉर्ड ठीक नहीं है उन्हें काम नहीं दिया जाएगा। सभी क्रय केंद्रों एवं भंडारण गोदामों की जियो टैगिंग कराई जाएगी। जिससे कि किसानों को लाभ पहुंचेगा।

यूपी गेहूं खरीद 2022 Highlights

योजना का नाम UP गेहूं खरीद
किसके द्वारा शुरू की गयी उत्तर प्रदेश सरकार
विभाग कृषि विभाग
लाभार्थी राज्य के किसान भाई
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन
ऑफिसियल वेबसाइट eproc.up.gov.in

गेहूं खरीद के माध्यम से सुनिश्चित की जाएगी पारदर्शिता:

राज्य के प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद बिना कुमारी जी द्वारा प्रस्तावित खरीद नीति के संबंध में एक प्रस्तुति दी गई है। इस प्रस्तुति में राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा विभिन्न प्रकार के सुझाव व्यक्त किए हैं। उन्होंने कहा है कि विभिन्न प्रकार के उपकरण जैसे इलेक्ट्रॉनिक कांटा, नमी मापने के उपकरण, डबल जाली का छलना आदि उपलब्ध कराया जाए। इन सभी उपकरणों को राज्य सरकार द्वारा 10 मार्च तक क्रय केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाएगा। राज्य के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा यह भी निर्देश दिए गए हैं कि इस वर्ष ई पॉप मशीनों के माध्यम से बायोमैट्रिक ऑथेंटिकेशन द्वारा गेहूं खरीदने की व्यवस्था की जाएगी। जो प्रणाली पारदर्शिता बनाएगी। इस वर्ष बटाईदारो से भी गेहूं की खरीद की जाएगी।

यूपी गेहूं खरीद पंजीकरण क्रय केंद्रों पर पथ प्रदर्शक चिन्ह

राज्य के मुख्यमंत्री जी द्वारा क्रय केंद्रों पर पथ प्रदर्शक चिन्ह लगाए जाने के निर्देश दिए गए तथा ग्राम पंचायतों में क्रय केंद्रों की सूची वाली वॉल पेंटिंग बनाने की भी निर्देश दिए गए हैं। इससे माध्यम से किसानों को सुविधा होगी। मुख्यमंत्री द्वारा अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि गेहूं खरीदी की पूरी प्रणाली में पारदर्शिता सुनिश्चित की जाए। किसी भी किसान को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना ना करना पड़े। किसानों को गेहूं का समय से भुगतान किया जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया को अधिकारियों द्वारा सरल तरीके से आयोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अप्रैल-मई के समय क्रय केंद्रों पर छाजन पेयजल की व्यवस्था होना अनिवार्य है।

यूपी गेहूँ खरीद किसान योजना का मुख्य उद्देश्य:

जिस प्रकार से हमारे देश में कोरोनावायरस आया और कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा पूरे देश भर में लॉकडाउन लगाया गया है। लॉक डाउन की वजह से देश के किसान अपनी फसल कहीं भी बेच नहीं पा रहे हैं। जिससे किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। उन्हीं सभी स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल को लांच किया है। जिस पर उत्तर प्रदेश के किसान अपने गेहूं की फसल बेचने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं। ऑनलाइन पंजीकरण करवाने के बाद किसान की फसल आसानी से बिक जाएगी और बेची गई फसल के पैसे समय पर मिल जाएंगे। सरकार द्वारा फसल खरीदने के बाद धनराशि सीधे लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दी जाएगी।

ई-क्रय प्रणाली की विशेषताएं

  • ई-क्रय प्रणाली की शुरुआत होने के बाद किसान भाई लॉकडाउन में ऑनलाइन मोड पर आसानी से अपनी फसल बेच पाएंगे।
  • सरकार द्वारा जारी की गई इस योजना का लाभ केवल उत्तर प्रदेश के किसान ही ले सकते हैं।
  •  किसान रजिस्ट्रेशन करने के बाद टोकन प्राप्त कर लें और फिर उसी दिन मंडी आए जिस दिन का आपके पास टोकन है।
  • राज्य सरकार ने साल 2020-21 के लिए राज्य भर में गेहूं की खरीद के लिए 5500 खरीद केंद्र स्थापित किए हैं।
  •  इस साल 55 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद करने का लक्ष्य राज्य सरकार द्वारा रखा गया है।
  • राज्य सरकार द्वारा गेहूं की खरीद 1925 रुपए प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन (MSP) मूल्य पर रखी गई है।
  • किसान भाइयों को अपनी फसल मंडी में ले जाने से पहले यूपी ई-उपार्जन पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करके टोकन प्राप्त करना होगा जिससे उसकी बारी आने पर ही अपनी फसल को लेकर मंडी जाए।

UP Gehu Kharid ऑनलाइन किसान पंजीकरण 2022 के दस्तावेज़:

  • आधार कार्ड
  • अपने  खेत का राजस्व अभिलेख से संबंधित जानकारी देनी होगी ।
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • किसानों को अपनी जमीन से संबंधित जानकारी के लिए खसरा – खतौनी, खसरा संख्या और जमीन का रकबा एवं गेहूँ का रकबा आदि देना आवश्यक है।

यूपी गेहूं खरीद किसान पंजीकरण 2022 की महत्वपूर्ण बाते

  • योजना के तहत लाभ लेने वाले लाभार्थियों को रजिस्ट्रेशन में गेहूं के खेत का विवरण देना जरूरी है।
  • लाभार्थियों द्वारा खेत के विवरण में खतौनी/खसरा संख्या, गेहूं का रकबा भरना जरूरी है।
  • रजिस्ट्रेशन फॉर्म में आधार कार्ड, बैंक अकाउंट पासबुक व राजस्व अभिलेखों का सही-सही विवरण भरना होगा।
  • किसानों का रजिस्ट्रेशन तब तक स्वीकार नहीं किया जावेगा, जब तक आवेदन लॉक नहीं हो जाता है।
  • रजिस्ट्रेशन की संपूर्ण जानकारी किसान के रजिस्टर फोन नंबर पर भेजी जाएगी।
  • किसान द्वारा गेहूं बेचने के बाद केंद्र प्रभारी से पावती पत्र की प्राप्ति अवश्य कर ले।
  • संपूर्ण रजिस्ट्रेशन होने के बाद किसानों को अपना रजिस्ट्रेशन नंबर और उसका प्रिंट जरूर ले ले।
  • किसान अपना फोन नंबर देकर रजिस्ट्रेशन ड्राफ्ट फिर से प्रिंट करवा सकता है।
  • यदि किसान के पास 100 क्विंटल से ज्यादा गेहूं की उपज है तो उसकी बिक्री के लिए एसडीएम से सत्यापन कराना होगा।

UP Gehu Kharid किसान पंजीकरण 2022 में ध्यान रखने वाले कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

  • इस योजना के तहत यूपी गेहूं खरीद ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण करवाने के लिए आपको पोर्टल पर दिए गए 1 से लेकर 6 स्टेप का पालन करना अनिवार्य है।
  • पोर्टल में दिए गए स्टेप 1 में पंजीकरण प्रारूप उपलब्ध है।
  • पंजीकरण प्रारूप की डाउनलोड प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपको इसे प्रिंट कराना होगा। जिसके बाद आपको इसमें संपूर्ण जानकारी भरनी होगी।
  • पंजीकरण करवाने के लिए फसल के लिए उपयोग की जाने वाली सभी भूमियों से संबंधित सही जानकारी दर्ज कराना अनिवार्य है।
  • भूमि से संबंधित सभी जानकारी दर्ज कराने के बाद आपको इसके अलावा खाता संख्या, खतौनी, प्लॉट/खसरा संख्या, भूमि का रकबा, फसल का रकबा भरना भी अनिवार्य है।
  • यह सब जानकारी भरने के बाद आपको प्रारूप में आधार कार्ड, बैंक पासबुक एवं राजस्व अभिलेखों का विवरण भी दर्ज कराना होगा।
  • अब आपका स्टेप 1 सफलतापूर्वक दर्ज हो गया है अब आप स्टेप 2 के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन दर्ज कर सकते हैं।
  • ऑनलाइन आवेदन करने के बाद आपको पंजीकरण संख्या की जानकारी अपने पास नोट करनी होगी।
  • इसके बाद आपको स्टेप 3 के पंजीकरण ड्राफ्ट से ड्राफ्ट आवेदन पत्र प्रिंट करना होगा।
  • यदि आपको अपने आवेदन में किसी भी प्रकार की संशोधन की आवश्यकता है तो आप स्टेप 4 में यह संशोधन सफलतापूर्वक कर सकते हैं।
  • जब आप अपनी सभी जानकारी को सही सही दर्ज कर दें तो आप स्टेप 5 मैं पंजीकरण लॉक कर सकते हैं। लेकिन पंजीकरण लॉक होने के बाद आपके आवेदन पत्र में किसी भी प्रकार का संशोधन नहीं किया जा सकता है।
  • संपूर्ण प्रक्रिया पूरी होने के बाद आप चाहे तो स्टेप 6 के माध्यम से अपना पंजीकरण फाइनल प्रिंट कर सकते हैं।
  • जब तक आवेदनकर्ता द्वारा पंजीकरण लॉक नहीं किया जाता है तब तक आवेदन का पंजीकरण मान्य नहीं किया जाएगा।
  • किसान अपनी फसल बेचने के बाद अपने केंद्र प्रभारी से पावती पत्र की प्राप्ति करना आवश्यक है।
  • आवेदन कर्ता द्वारा आवेदन में पूछी गई सभी जानकारी को दर्ज करते समय विशेष ध्यान रखें कि आपके द्वारा किसी भी प्रकार की गलत जानकारी दर्ज ना हो जाए।
  • जो किसान भाई वर्ष 2019 में धान खरीद के लिए पंजीकरण करा चुके हैं उन किसान भाइयों को दोबारा से अपनी फसल बेचने के लिए पंजीकरण नहीं कराना है। वह अपने आवेदन पत्र को संशोधन करके या बिना करें लॉक कर सकते हैं।
  • गेहूं बेचते समय किसान को अपना पंजीकरण प्रपत्र के साथ-साथ आधार कार्ड, फोटो युक्त पहचान पत्र, कंप्यूटराइज खतौनी एवं बैंक पासबुक की प्रथम पेज की फोटो-कॉपी भी लाना अनिवार्य हैं।

UP गेहूं खरीद ऑनलाइन किसान पंजीकरण कैसे करे ?

उत्तर प्रदेश के जो किसान ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण कराना चाहते हैं वह नीचे दिए गए निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले लाभार्थी को खाद्य एवं रसद विभाग, उ० प्र० ई-क्रय प्रणाली को ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा । इस वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आ जाएगा।
  • अब आपको होम पेज पर “गेहू खरीद हेतु किसान पंजीकरण “ का विकल्प दिखाई देगा। इस विकल्प पर आपको क्लिक करना होगा।

  • विकल्प पर क्लिक करते ही आपके सामने कंप्यूटर स्क्रीन पर अगला पेज ओपन हो जाएगा। जिसके बाद इस पेज पर आपको 6 स्टेप भरने होंगे।

  • सर्वप्रथम आपको पंजीकरण प्रपत्र वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। क्लिक करते ही आपके सामने अगले पेज पर किसान रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा।

  • जहा पर आपको आपको अपना मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड  भरना होगा । इसके बाद आगे बढे के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा ।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने रवि फसल (गेहूं खरीद) के लिए किसान ऑनलाइन पंजीकरण प्रपत्र / फॉर्म खुल जाएगा।
  • इस पंजीकरण फॉर्म मैं आपसे पूछी गई सभी जानकारी जैसे किसान का नाम, मोबाइल नंबर,आधार कार्ड नंबर, पता, तहसील, पिता, पति का नाम जनपद आदि भरना होगा।
  • संपूर्ण जानकारी सफलतापूर्वक भरने के बाद आपको पंजीकरण करें” के बटन पर क्लिक करना होगा।

किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट

यदि कोई भी आवेदनकर्ता ई-उपार्जन पर ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म भरने जाता है। तो उसके पहले आप आवेदन पत्र का प्रारूप भी देख सकते हैं। जिससे किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए आवेदन फॉर्म भरने में आसानी होगी। अब आवेदन कर्ता को पंजीकरण प्रारूप के विकल्प पर क्लिक करना है। जिसके बाद पंजीकरण प्रारूप की पीडीएफ खुलकर आ जाएगी जिसे आप ध्यान पूर्वक पढ़ सकते हैं।

मक्का खरीद हेतु किसान पंजीकरण कैसे करें?

मक्का खरीदी हेतु किसान पंजीकरण के स्टेप्स निम्नलिखित हैं।

  • सर्वप्रथम आपको खाद एवं रसद विभाग, उत्तर प्रदेश ई-क्रय प्रणाली की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुलकर आ जाएगा।
  • इस होम पेज में आपको मेन्यू मैं मक्का खरीदे हेतु किसान पंजीकरण के ऑप्शन पर क्लिक करना है। ऑप्शन पर क्लिक करते ही आपके सामने एक नया पेज ओपन हो जाएगा।
  • इस पेज में आपको 6 स्टेप दिखाई देंगे। जिसमें आपको सबसे पहले पंजीकरण प्रपत्र के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद पंजीकरण पेज आपकी स्क्रीन पर ओपन हो जाएगा।
  • इस पेज के कॉलम में आप अपना मोबाइल नंबर दर्ज करें उसके बाद कैप्चा कोड भरकर ‘आगे बढ़े’ के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • आगे बढ़ने के बाद आपकी स्क्रीन पर किसान ऑनलाइन पंजीकरण प्रपत्र मक्का फसल (मक्का करीब) के लिए फॉर्म खुलकर आ जाएगा।
  • इस पंजीकरण प्रपत्र/फॉर्म मैं आप अपनी जानकारी जैसे नाम, पता, आधार कार्ड नंबर, मोबाइल नंबर, तहसील आदि की जानकारी दर्ज करना है।
  • संपूर्ण जानकारी सही दर्ज होने के बाद ” सबमिट” के बटन पर क्लिक करते ही आपकी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

धान खरीद हेतु किसान पंजीकरण – eproc.up.gov.in registration 2021-22 dhan

धान खरीद हेतु किसान पंजीकरण की प्रक्रिया निम्नलिखित है।

  • सर्वप्रथम आपको खाद एवं रसद विभाग।, उत्तर प्रदेश की ई-क्रय प्रणाली की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने एक होमपेज ओपन हो जाएगा।
  • इस होम पेज में आपको मेन्यू में गेहूं खरीद हेतु किसान पंजीकरण के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने नया पेज ओपन हो जाएगा जिसमें आप छह चरणों की जांच कर सकते हैं।
  • आपको अपना मोबाइल नंबर डालने के बाद कैप्चा कोड भरना है। और आगे बढ़े के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • जिसके बाद धान फसल के लिए किसान ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म खुलकर आ जाएगा।
  • इस फोन में आपको अपना नाम, पता, आधार कार्ड नंबर, मोबाइल नंबर, तहसील, जनपद आदि जानकारी भरनी होगी।
  • संपूर्ण जानकारी बनने के बाद आपको ”सबमिट” के बटन पर क्लिक कर देना है। इस तरह आप इस पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

UP किसान पंजीकरण संसोधन / ड्राफ्ट

  • पंजीकरण फॉर्म भरते समय अगर किसान द्वारा किसी भी प्रकार की गलत जानकारी दर्ज हो गई है तो किसान पंजीकरण संशोधन पर क्लिक करके संशोधन कर सकते हैं।
  • इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने एक फॉर्म खुलकर आ जाएगा जिसे आप बिना गलती के भरे।  .
  • अब आप को दी गई जानकारी भरने के बाद आगे बढ़े ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।

किसान पंजीकरण फॉर्म प्रिंट या सेव कैसे करें?

  • प्रदेश के वह किसान जिन्होंने ऑनलाइन आवेदन पत्र भर दिया है वे उस आवेदन पत्र का प्रिंट आसानी से निकाल सकते हैं। आवेदन पत्र का प्रिंट निकालने के लिए आपको पंजीकरण प्रिंट के विकल्प पर क्लिक करना होगा ।
  • इस विकल्प पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज ओपन हो जाएगा। इस पेज पर आपको अपना मोबाइल नंबर तथा कैप्चा कोड डाल देना है और आगे बढ़े के बटन पर क्लिक करना है।
  • जिसके बाद आपके द्वारा भरा हुआ प्रपत्र खुल जाएगा जिसको आप चाहें तो प्रिंट या सेव कर सकते हैं।

आवेदन लॉक के बाद टोकन बनाये

  • रबी फसल (गेहूँ खरीद) हेतु ऑनलाइन पंजीकरण फॉर्म भरने के बाद किसान द्वारा अपनी फसल को मंडी में किस दिन कितने बजे लेकर जाना है इसके लिए मंडी टोकन बनाना आवश्यक होगा ।
  • सर्वप्रथम आप लॉक के उपरांत टोकन बनाये के स्टेप पर क्लिक करें। इस विकल्प पर क्लिक करने के बाद यहाँ पर “किसान पंजीयन आईo डीo अथवा मोबाइल न०:” और “कैप्चा कोड भरें” यह सब करने के बाद आगे बढ़े के बटन पर क्लिक करें।
  • इस ”आगे बढ़े” के ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद रबी फसल (गेहूं खरीद) हेतु ऑनलाइन टोकन पंजीकरण फॉर्म खुलकर आ जाएगा।
  • आवेदनकर्ता को अपनी फसल बेचने हेतु टोकन उसके मोबाइल नंबर पर भी प्राप्त होंगा जिसमें उपज को लेकर जाने का दिन और समय दोनों दिए गए होंगे।

Mobile App Download करने की प्रक्रिया

जो किसान भाई मोबाइल ऐप डाउनलोड करके पंजीकरण फॉर्म भरना चाहते हैं। वे नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले आपको खाद एवं रसद विभाग सार्वजनिक वितरण प्रणाली उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आ जाएगा।
  • इस होम पेज के खुलते ही आप खरीद हेतु किसान पंजीकरण के विकल्प पर क्लिक करें।
  • ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद अब आपको मोबाइल ऐप डाउनलोड करें (केवल एंड्रॉयड फोन) के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • आप जैसे ही इस ऑप्शन पर क्लिक करेंगे मोबाइल ऐप आपके स्मार्टफोन में डाउनलोड होना शुरू हो जाएगा।
  • मोबाइल ऐप डाउनलोड होने की प्रक्रिया के बाद आपको इस ऐप को अपने फोन में इंस्टॉल करना होगा।
  • इस प्रकार आप बताए हुए स्टेप्स से मोबाइल ऐप डाउनलोड कर पाएंगे।

सीएमआर का मूवमेंट चालान जनरेट करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको खाद एवं रसद विभाग सार्वजनिक वितरण प्रणाली उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको गेहूं क्रय प्रबंधन प्रणाली 2022-22 के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको शाखा में विपरण शाखा का चयन करना होगा।
  • अब आपको यूजरटाइप में क्रय केंद्र का चयन करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको अपनी यूजर आईडी, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • अब आप को सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको परिवहन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको मूवमेंट चालान जारी करें सीएमआर के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि प्रेषक का नाम, मिल का नाम, प्राप्तकर्ता, परिवहन करता का नाम आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सुरक्षित करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • ऑप्शन पर क्लिक करते ही आपके सामने सीएमआर का मूवमेंट चालान जनरेट हो जाएगा।

ई प्रोक्योरमेंट मॉड्यूल पर डिजिटल सिगनेचर सर्टिफिकेट सेव कैसे करें?

  • आवेदन कर्ता को सबसे पहले खाद एवं रसद विभाग सार्वजनिक वितरण प्रणाली उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इस वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज खुलने के बाद आपको गेहूं क्रय प्रबंधन प्रणाली 2022-22 के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करने के बाद आपको लॉगिन के सेक्शन शाखा में वितरण शाखा का चयन करना होगा।
  • इसके बाद आपको यूजरटाइप में डिपो यूजर का चयन करना होगा।
  • चयन करने के बाद आपको अपने जनपद का भी चयन करना होगा।
  • अब आप अपनी यूज़र आईडी, पासवर्ड और कैप्चा कोड को दर्ज करें।
  • कैप्चा कोड दर्ज करने के बाद आपको डिजिटल सिग्नेचर संरक्षित करेंगे ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही अब आपके सामने एक न्यू पेज ओपन हो जाएगा।
  • इस न्यू पेज पर आपको अपना मोबाइल नंबर, ऑफिसर रोल, ऑफिसर नेम, ऑफिसर नेम इन डीएससी, डीएससी वैलिडिटी फॉर्म आदि दर्ज करना होगा।
  • यह सब दर्ज करने के बाद आपको सर्टिफिकेट सिलेक्ट करना होगा।
  • अब आपको हस्ताक्षरित करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप डिजिटल सिगनेचर सर्टिफिकेट सेव कर पाएंगे।

खरीदे हुए गेहूं का विवरण सुरक्षित करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको अपने मोबाइल फोन में ई प्रोक्योरमेंट ऐप खोलना होगा।
  • अब आपको क्रय केंद्र प्रभारी का लॉगइन आईडी एवं पासवर्ड दर्ज करना होगा।
  • यह सब करने के बाद आपको लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको किसान खोजें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको किसान की आईडी तथा क्राय तिथि दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको जमा करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने किसान से संबंधित सभी जानकारी खुलकर आ जाएगी।
  • अब आधार प्रमाणीकरण पर स्वयं या फिर मनोनीत व्यक्ति में से किसी एक का चयन करना होगा।
  • अब आपको जमा करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद किसान को बायोमेट्रिक स्कैन करना होगा।
  • अब केंद्र प्रभारी को भी अपना बायोमेट्रिक स्कैन करना होगा।
  • आपको जमा करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको ओके के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप खरीदे गए गेहूं का विवरण सुरक्षित कर सकते हैं।
  • अब आपकी स्क्रीन पर खरीद क्रमांक और देय राशि खुल कर आ जाएगी।
  • आप बिल प्रिंट पर क्लिक करके बिल को प्रिंट भी कर सकते हैं।

OTP सत्यापन करने की प्रक्रिया

यदि आवेदन कर्ता का किसी भी प्रकार से बायोमेट्रिक सत्यापन 3 बार से ज्यादा बार फेल होता है तो ऐसी स्थिति में OTP सत्यापन किया जाता है। OTP सत्यापन करने की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार है।

  • सर्वप्रथम आपको अपने मोबाइल फोन में e-procurement ऐप खोलना होगा।
  • अब आपको क्रय केंद्र प्रभारी का यूजर नेम तथा पासवर्ड दर्ज करके लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको किसान खोजे के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको किसान की आईडी दर्ज करके जमा करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको आधार प्रमाणीकरण के अंतर्गत स्वयं या मनोनीत व्यक्ति के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको जमा करें के भीतर पर सेट करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको बायोमेट्रिक स्कैन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • स्कैन फेल होने की स्थिति में आपके सामने ओटीपी का पेज खुल कर आएगा।
  • अब आधार से लिंक मोबाइल नंबर पर आपको एक ओटीपी प्राप्त होगा।
  • आपको इस ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • अब आपको जमा करें के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप ओटीपी के माध्यम से सत्यापन कर पाएंगे।

केंद्र प्रभारी लॉगइन के अंतर्गत उपलब्ध विवरण

  • केंद्र प्रभारी लोगिन करने के बाद आवेदनकर्ता के सामने डैशबोर्ड खुलकर आ जाएगा।इस बोर्ड में किसान से संबंधित जानकारी एवं सेटिंग को खोजा जा सकता है। और सहायता भी प्राप्त की जा सकती है।
  • किसान से संबंधित पूरी जानकारी प्राप्त करने के लिए उपयोगकर्ता को किसानों की संख्या दर्ज करनी होगी।
  • यदि केंद्र सरकार की ओर से किसान की खरीद खारिज कर दी गई है तब अस्वीकृति संदेश खुलेगा।
  • यह सब करने के बाद किसान का पूरा विवरण खुलकर आ जाएगा। सभी जानकारी सही प्राप्त होने पर किसान को स्वयं या किसी मनोनीत व्यक्ति का चयन करना होगा।
  • किसान द्वारा स्वयं या मनोनीत व्यक्ति का चयन करने के बाद किसान का बायोमेट्रिक सत्यापन किया जाएगा।
  • यह सत्यापन स्केनर के माध्यम से किसान की फिंगरप्रिंट से किया जाएगा।
  • यदि किसी कारणवश किसान का बायोमेट्रिक सत्यापन 3 बार से अधिक चालू हो जाता है तो ऐसी स्थिति में ओटीपी सत्यापन किया जाता है।
  • ओटीपी सत्यापन करने के लिए किसान के आधार से लिंक मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजा जाता है जो ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होता है।
  • यह सब करने के बाद किसान का बायोमेट्रिक सत्यापन पूरा हो जाता है। अब इसके बाद केंद्र प्रभारी का बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण किया जाता है।
  • यह प्रमाणीकरण सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद खरीद प्रदेश का फॉर्म खुल जाता है।
  • इसके बाद अब एक खाद्य मानक प्रपत्र खुलकर आता है। यदि केंद्र प्रभारी द्वारा वस्तु सत्यापन का चयन हां में किया गया है तो खरीद एंट्री फॉर्म खुलकर आ जाएगा यदि नहीं किया है तो अस्वीकृति पेज खुल कर आता है।
  • यदि केंद्र प्रभारी द्वारा मानक से प्रपत्र में नहीं का चयन किया गया है तो इस स्थिति में अस्वीकृति के कारण का पेज स्क्रीन पर खुलकर आता है। इस पेज पर केंद्र प्रभारी द्वारा कारणों का चयन करके सहेजे के बटन पर क्लिक किया जाता है।
  • खरीद प्रभारी द्वारा यहां पर सभी आवश्यक फील्ड भरकर जमा करे के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद खरीद सफल हो जाती है और एक बिल प्रिंट का ऑप्शन खुलकर आता है।
  • बिल प्रिंट करने के विकल्प पर क्लिक करने के बाद बिल की रसीद प्रिंट हो जाती है।

Do’s प्रोक्योरमेंट मशीन

  • टर्मिनल को ओपन करने के बाद आपको तब तक प्रतीक्षा करनी होगी जब तक एलसीडी का लास्ट लाइन सिग्नल बार में 1E या 2E लिखकर ना जाए।
  • अगर आपको हर दिन मशीन का इस्तेमाल करना है तो बैटरी को 4 से 5 घंटे चार्ज करना होगा।
  • यदि किसी कारणवश एफपीएस ओनर द्वारा मशीन का इस्तेमाल रोज नहीं किया जाता है। तब भी मशीन को प्रतिदिन चार्ज करना अनिवार्य है।
  • मशीन की बैटरी को स्विच ऑफ मोड में भी चार्ज किया जा सकता है।
  • बैटरी को चार्ज करने के लिए सप्लाई एडाप्टर का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।
  • केरोसिन या अन्य सामग्री की प्राप्ति होने पर स्टॉक की जानकारी दर्ज करने के बाद लॉग आउट करना अनिवार्य है।
  • बायोमेट्रिक स्कैन के लिए फिंगरप्रिंट स्कैनर प्रोक्योरमेंट मशीन में पहले से है। इस स्कैनर का इस्तेमाल आपको बहुत ध्यान से करना होगा।
  • मशीन के एंटीना की थ्रेडिंग तथा अनथ्रेडिंग का उचित ध्यान रखा जाना अनिवार्य है।
  • आपको प्रिंटिंग के लिए कागज के रोल को आगे की दिशा में डालना होगा।
  • यदि आपने कागज के रोल को पीछे की दिशा में डाला तो प्रिंट आउट नहीं निकल पाएगा।
  • आपको पेपर रोल प्रिंटर कैबिनेट में डालने के बाद उसे सही तरीके से लॉक करना होगा।
  • प्रिंट करने के लिए आपको अच्छी गुणवत्ता का कागज इस्तेमाल करना होगा।
  • यदि मशीन आप के इस्तेमाल में नहीं है तो आपको मशीन को बंद रखना होगा।

Don’ts प्रोक्योरमेंट मशीन

  • मशीन के तार को ना हिलाएं ना ही उस पर कुछ रखें।
  • टर्मिनल को मेटल पार्टिकल, पानी या फिर धूल में ना रखें।
  • मशीन को इस्तेमाल करते समय पीओएस टर्मिनल के बैटरी कवर को नहीं खोलें।
  • GL11 टर्मिनल को इस्तेमाल करने से पहले एलसीडी स्टिकर हटा दें।
  • सिम कार्ड को ना हटाए।
  • पीओएस टर्मिनल को खोलने के बाद एंटीना को कनेक्ट ना करें।
  • प्लग को गिला हाथों से ना छुएं।
  • एलसीडी टच पर पेन, पेंसिल या स्क्रुड्राइवर का इस्तेमाल ना करें।
  • मशीन को साफ करने के लिए गिले या एरोसोल क्लीनर का इस्तेमाल ना करें।
  • बैटरी को बाहरी चार्जर से चार्ज करने की कोशिश ना करें।
  • VISIONTEK GL-11 के टर्मिनल पर लगा कोई भी स्टिकर ना हटाए।
  • फिंगरप्रिंट स्कैनर को भी पेन, पेंसिल या फिर मेटल से ना छुए। ना ही उसे किसी गिले पदार्थ से साफ करें।

तो दोस्तों, आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से संपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी है। यदि फिर भी आपको किसी भी प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Tags related to this article
Categories related to this article
UP Govt Scheme

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top