ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण@enam.gov.in Portal, e nam रजिस्ट्रेशन

राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) योजना |ई-नाम मंडी | ई-नाम पोर्टल किसान पंजीकरण | @enam.gov.in Portal | ई-नाम ऑनलाइन 

माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी द्वारा किसानों की परेशानी को देखते हुए केंद्र सरकार ने e nam Portal की शुरुआत की है। इस योजना के माध्यम से देश के सभी के साथ e nam रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद अपनी फसल का उचित मूल्य प्राप्त कर सकते हैं। इस योजना को राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के नाम से जाना जाता है। राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) एक अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है इसके माध्यम से किसान घर बैठे देश की किसी को नहीं मिलती ऑनलाइन अपनी फसल को बेच सकता है। वास्तव में यह मंडियों का एकीकृत राष्ट्रीय बाजार बनाया गया है। जिससे बिचोली खत्म हो सके और ए।पी।एम।सी मंडी का प्रचार-प्रसार हो सके। इसके अलावा किसान ऑनलाइन जो भी फसल भेजेंगे उनका उन्हें भुगतान सीधे उनके बैंक अकाउंट में प्राप्त हो जाएगा।

ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण

इस योजना का लाभ लेने के लिए किसान को ई-नाम मैं अपना पंजीकरण ऑनलाइन करवाना पड़ेगा। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने ई-नाम को लागू करने के लिए लघु कृषक कृषि व्यापार संघ से सुझाव लिए हैं। national agriculture market (ई-नाम) एक डिजिटल पोर्टल है जिसके माध्यम से कृषि उत्पादों के लिए एकीकृत बाजार बनाया गया है। इस बाजार को राष्ट्रीय कृषि बाजार का नाम दिया गया है इसके तहत मौजूदा मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोड़ा जाता है। इससे देश के सभी किसानों को लाभ मिला है और जो भी अपनी फसल को ऑनलाइन बेचना चाहते हैं वह इंटरनेट का उपयोग करके e naam पोर्टल के माध्यम से फसल देख सकते हैं। देखने के लिए किसान ई-एनएएम पोर्टल पर जाकर enam.gov.in पर पंजीकरण करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

राष्ट्रीय कृषि बाजार का उद्देश्य

किसानों की सबसे बड़ी समस्या होती है कि अपनी फसलों को अच्छे दाम पर बेचना। असली प्रणाली में बिचौलिया की शान से फसलें कम दाम पर खरीदते थे और उन्हें आगे जाकर अधिक दाम में देखे थे। लेकिन अब राष्ट्रीय कृषि बाजार  (ई नाम ) पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल अपने हिसाब से उचित दाम पर बेच पाएंगे । यानी सोचना पड़ेगा कि फसल कहां बेचे । कृषि से जुड़े सभी उत्पादों को बेचने के लिए किसान को enam ऑनलाइन आवेदन पत्र भरना होगा जिससे वह खुद को विक्रेता के रूप में रजिस्टर कर सकेंगे और इसके पश्चात अपनी फसलों को अच्छे दामों पर बेच सकेंगे। साथ ही फसल बेचने के बाद किसानों का पैसा बिजोलिया के माध्यम से देरी से आता था लेकिन national agriculture market के कारण पैसा किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

e nam रजिस्ट्रेशन के फायदे

इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि किसान पंजीकरण और किसानों के ई-नाम पर फायदे। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत सरकार ने देश में कृषि विप्राण प्रणाली को मजबूत करने के लिए उनमें से एक अहम कदम राष्ट्रीय कृषि बाजार की शुरुआत है यह एक अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है। जो कृषि वस्तुओं के लिए एकीकृत बाजार बनाने मौजूदा मंडियों को एकजुट करता है राष्ट्रीय कृषि बाजार एक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल पर काम करने के लिए एक प्राकृतिक आवासीय बाजार है लेकिन यह पोर्टल पारंपरिक बाजारों पर आधारित है। ई-नाम की योजना को केंद्र सरकार राज्य के साथ मिलकर लागू कर रही है।

  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा 8 राज्यों की मंडियों में 14 अप्रैल 2016 को पायलट आधार पर शुरू किया गया था हालांकि सरकार ने 175 कृषि वस्तुओं का व्यापार करने के लिए ई-नाम पोर्टल योजना के तहत 18 राज्यों और 3 केंद्र शासित प्रदेशों से 1000 बाजारों को एकीकृत किया है।
  • जिससे कि आज हमारे साथ एक हजार ई-नाम मंडियां जुड़ चुकी है।
  • किसानों के इनाम में फायदे पारंपरिक व्यापार की तुलना में अधिक पारदर्शिता ऑनलाइन ट्रेडिंग
  • वास्तविक समय में कृषि उपज की उचित मूल्य गुणवत्ता प्रमाणीकरण भंडारण
  • किसानों को उपज बेचने के लिए अधिक मंडिया उपलब्ध है
  • e nam  ऑनलाइन मार्केट प्लेटफॉर्म व्यापार में पारदर्शिता आएगी व्यापार व वास्तविक कीमतों की सही जानकारी प्राप्त होगी
  • किसान निशुल्क पंजीकरण करवा सकते हैं
  • उचित मूल्य की खोज कर सकते हैं
  • यह पेमेंट के माध्यम से खाते में सीधे भुगतान प्राप्त कर पाएंगे
  • पारदर्शी ई-बोली प्रक्रिया

E NAM पोर्टल की विशेषताएं

  • इस पोर्टल के माध्यम से अब देश के सभी राज्य मिलकर काम कर सकेंगे।
  • सरकार में हर साल ई नाम कि ज्यादा से ज्यादा मंडियों को जोड़ने का लक्ष्य रखा है और जल्दी इसमें लगभग सभी मंदिर शामिल हो जाएंगे।
  • ई नाम को सरकार ने लघु कृषक कृषि व्यापारी संघ के माध्यम से संचालन किया जा रहा है ।
  • ई नाम के कारण आप किसान बिचौलियों से छूट पाएंगे और अपने सपनों को सीधे मंडियों के माध्यम से किसी भी राज्य में भेज पाएंगे।
  • इस पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल को देश की किसी भी मंडी में भेज सकते हैं।

ई-नाम पोर्टल रजिस्ट्रेशन के लिए जरूरी दस्तावेज और पात्रता

  1. किसान को भारतीय नागरिक होना आवश्यक है।
  2. किसान का आधार कार्ड
  3. किसान की पहचान पत्र
  4. बैंक पासबुक
  5. मोबाइल नंबर
  6. पासपोर्ट साइज फोटो

e nam Portal पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन  करने की प्रक्रिया

जो भी इच्छुक लाभार्थी नागरिक इस पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करना चाहते हैं वह नीचे दिए गए तरीके का पालन करें।

  • सबसे पहले इच्छुक लाभार्थी किसान को इ नाम को आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करना होगा । वेबसाइट पर जाते ही मुख्य पृष्ठ खुल जाएगा जैसे कि नीचे स्क्रीनशॉट में दिखाया गया है।
  • वेबसाइट के मुख्य पृष्ठ में ही आपको Registration का विकल्प दिखेगा आपको इस विकल्प में क्लिक करना है। जैसी आप क्लिक करेंगे आपके सामने वेबसाइट पर एक फॉर्म खुलकर आएगा।
  • इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म में कुछ जानकारियां आपको दर्ज करनी है जैसे कि किसान पंजीकरण प्रकार, आधार नंबर, बैंक विवरण, आवेदक की जन्म तिथि, आवेदक का नाम आदि।
  • जानकारियां दर्ज करने के पश्चात कैंसिल चेक की कॉपी या पासबुक की कॉपी या आईडी प्रूफ की स्कैन कॉपी अपलोड करनी होंगी।
  • जानकारियां और दस्तावेजों को अपलोड करने के पश्चात सबमिट के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार से पंजीकरण प्रक्रिया पूरी होने पर आवेदन पत्र का प्रिंट आउट ले लेना चाहिए, किसान कृषि उत्पादों को बेचने के लिए लॉगिन कर सकते हैं।
  • लॉग इन करने के लिए वेबसाइट के मुख्य पृष्ठ में जाना होगा, वहां आपको लॉगिन का विकल्प दिखेगा इस विकल्प में क्लिक करना है।
  • इस प्रकार वेबसाइट पर नया लॉगइन पेज खुल कर आएगा।
  • यहां आपको अपना यूजर नेम और पासवर्ड दर्ज करना है उसके पश्चात कैप्चा कोड डालकर लॉगइन के बटन पर क्लिक करना है।

ई-एनएएम पोर्टल किसान ऑनलाइन पंजीकरण दिशानिर्देश डाउनलोड  करने की प्रक्रिया

  • दिशा निर्देश डाउनलोड करने के लिए आपको सर्वप्रथम ई नाम की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करना होगा ।
  • अब वेबसाइट का मुख्य पृष्ठ खुलकर सामने आ जाएगा।
  • मुख्य पृष्ठ में आपको Resoures का विकल्प मिलेगा आपको इस विकल्प का चयन करके Registration Guidelines के लिंक पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपके सामने Registration Guidelines खुल जायेगा । इस प्रकार से इसके आधार पर आप अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं ।

ई-नाम मंडियों का व्यापार विवरण देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले इच्छुक लाभार्थी किसान को इ नाम को आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करना होगा ।
  • वेबसाइट पर जाते ही मुख्य पृष्ठ खुल जाएगा जैसे कि नीचे स्क्रीनशॉट में दिखाया गया है।
  • वेबसाइट के मुख्य पृष्ठ पर ही आपको व्यापार विवरण का विकल्प मिलेगा।
  • इस विकल्प पर क्लिक करते ही वेबसाइट का नया पेज खोलकर आएगा, यहां पर आपको राज्य का चयन करना होगा, उसके पश्चात एपीएमसी का चयन करना होगा।
  • फिर जींस का चयन करके तारीख का चयन करें और फिर रिफ्रेश की बटन पर क्लिक करें।
  • क्लिक करते ही वहां की मंडियों का व्यापार विवरण आपके सामने खुलकर आ जाएगा।

ई नाम मोबाइल ऐप डाउनलोड कैसे करें

  • ऐप डाउनलोड करने के लिए सबसे पहले आपको गूगल प्ले स्टोर या एप्पल स्टोर खोलना होगा।
  • प्ले स्टोर में सर्च का बॉक्स मिलेगा वहां पर ई नाम दर्ज करें।
  • Android Users – https://play.google.com/store/apps/details?id=in.gov.enam&hl=en_INApple Users – https://apps.apple.com/in/app/enam/id1516767245
  • अब आप इंस्टॉल के बटन का उपयोग करके इसको अपने फोन पर इंस्टॉल कर ले
  • इस प्रक्रिया से आप ई नाम ऐप आपके मोबाइल फोन में डाउनलोड कर पाएंगे।

संपर्क माध्यम

NCUI Auditorium Building, 5th Floor, 3, Siri Institutional Area, August Kranti Marg, Hauz Khas,
New Delhi – 110016. PhoneHelp Desk No.: 1800 270 0224
Fax+91-11- 26862367 EmailEmail id- nam[at]sfac[dot]in, enam[dot]helpdesk[at]gmail[dot]com

Office Time: 09:30 AM. to 06:00 PM.

e nam रजिस्ट्रेशन किसान हेल्पलाइन नंबर

इस योजना से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए या e nam रजिस्ट्रेशन के लिए आप टोल फ्री नंबर पर निशुल्क कॉल कर सकते हैं टोल फ्री नंबर और ईमेल आईडी और आधिकारिक वेबसाइट नीचे दी गई है: –

  • हेल्पलाइन (टोल फ्री) नंबर: 1800 270 0224
  • ईमेल आईडी: nam@sfac.in, enam.helpdesk@gmail.com
  • आधिकारिक वेबसाइट: https://enam.gov.in/web/

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *