छत्तीसगढ़ बकरी पालन योजना 2021: CG Bakri Palan Yojana

बकरी पालन योजना छत्तीसगढ़ पंजीकरण, सब्सिडी|Chhattisgarh Bakri Palan Subsidy | Chhattisgarh Bakri Palan Application Form PDF | बकरी पालन अनुदान योजना छत्तीसगढ़ फॉर्म

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने राज्य के नागरिकों की रोजगार स्थापना करने के लिए और ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका के लिए राज्य बकरी उद्यमिता विकास योजना का शुभारंभ किया है। इस योजना के माध्यम से अब छत्तीसगढ़ के लोग अपना स्वरोजगार स्थापित कर सकते हैं। क्योंकि आप जानते हैं कि बकरी पालन के माध्यम से आय के स्रोत बढ़ जाते हैं और दुग्ध और मांस की आपूर्ति भी पूरी हो जाती है। इस योजना के माध्यम से आप यह जान पाएंगे कि छत्तीसगढ़ में बकरी पालन योजना क्या है? और Chhattisgarh Bakri Palan Subsidy Yojana 2021 से जुड़ी सभी जानकारी जैसे की आवेदन प्रक्रिया, लाख विशेषताएं, लोन सब्सिडी, आवेदन पत्र डाउनलोड आदि प्राप्त कर पाएंगे। साथ ही यह जान पाएंगे कि CG Goat farming scheme 2021 के अंतर्गत किसको कितने प्रतिशत का अनुदान देना पड़ेगा और कितनी सब्सिडी प्राप्त होगी|

CG Bakri Palan Yojana 2021

छत्तीसगढ़ में बकरी पालन का कार्य परंपरागत रूप से चलता है, और इसे विभिन्न वर्गों द्वारा किया जाता है, लेकिन छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने आप इसको व्यवसाय के रूप में बढ़ाने के लिए सीजी बकरी पालन योजना 2021 का शुभारंभ किया है। जिससे गरीब वर्ग के लोग बकरी, कुकुट, शुगर पालन का व्यवसाय कर सके और अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर सके प्रदेश में 19 पशु संगणना की गई, जिसके माध्यम से यह पता लगा कि बकरियों की कुल संख्या राज्य में लगभग 33 लाख है। इसे देखते हुए राज्य सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए बकरी पालन की योजना पर जोर दिया है। जिससे सुगम एवं सुलभ और लोकप्रिय उद्यम के रूप में इस को विकसित किया जा सके CG Bakri Palan Yojana 2021 के माध्यम से सरकार ने इस योजना से जुड़ी अपार संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए इस व्यवसाय को बड़े पैमाने पर ग्रामीण स्वरोजगार के रूप में विकसित करने का सोचा है। कृषि योजना के तहत गोट फार्मिंग कम से कम 30 बकरियां और दो बकरों को रखना होगा। जिनकी लागत ₹100000 होगी साथी वर्गों के अनुसार सामान्य वर्ग को 25% तक का अनुदान दिया जाएगा। और वही अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को 33.3% का अनुदान राशि दी जाएगी।

छत्तीसगढ़ बकरी पालन योजना 2021 के मुख्य बिंदु

योजना का नाम राज्य बकरी उद्यमिता विकास योजना 2021
शुरू की गई राज्य सरकार के द्वारा
राज्य छत्तीसगढ़
योजना के लाभार्थी राज्य के लोग
योजना का उद्देश्य लोगो को बकरी पालन पर सब्सिडी प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइट क्लिक करें

Bakri Palan Yojana Chhattisgarh 2021 का उद्देश्य

इस योजना के मुख्य उद्देश्य निम्न है:-

  • सरकार का यह उद्देश्य है कि बकरी पालन के जरिए राज्य में दुग्ध और मांस की आपूर्ति आसानी से हो सके।
  • इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले सभी लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए आय का स्रोत बना सकें।
  • Bakri Palan Yojana Chhattisgarh 2021 के माध्यम से जो भी लोग बकरी पालन में रुचि रखते हैं वह अपना रोजगार स्थापित कर सके।
  • स्वरोजगार स्थापित करने के लिए राज्य द्वारा ग्रामीण लोगों को और अपना कार्य करने वाले लोगों को तकनीकी और आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में विकास हो पाएगा और राज्य की भी आर्थिक स्थिति को बल मिलेगा।

बकरी पालन योजना छत्तीसगढ़ 2021 की विशेषताएं

  • बकरी के व्यवसाय में लागत बहुत कम लगती है और इससे आमदनी बहुत ज्यादा होती है।
  • बकरी का दूध बहुत ही ऊंचे दामों में बिकता है और यह पौष्टिक और सुपाच्य होता है।
  • बकरी के दूध को रोगियों के लिए और बच्चों के लिए बहुत ही उपयुक्त माना गया है।
  • बकरी का मांस बहुत ही महंगे दामों में बिकता है और इसमें प्रोटीन की मात्रा भरपूर होती है।
  • बकरी के प्रजनन क्षमता बहुत ही अधिक होती है अर्थात कम पीढ़ी अंतराल और एक साथ एक से अधिक मेमना का उत्पादन होता है।
  • बकरी पालन योजना छत्तीसगढ़ 2021 के माध्यम से राज्य के लोग बकरी पालन व्यवसाय कैसे अच्छा कमा सकते हैं व सूखे की स्थिति में भी बकरियां जीवन यापन करने में बहुत ही सक्षम होती हैं।

छत्तीसगढ़ राज्य बकरी उद्यमिता विकास योजना 2021 का स्वरूप और अनुदान सब्सिडी

नाम योजना की लागत सामान्य वर्ग के लोग अनुसूचित जाती ,जन जाती
के लाभार्थी के लिए
30 बकरियां और दो अच्छी नस्ल के बकरे प्रति इकाई एक लाख रुपए तक की राशि (1 लाख की राशि में) प्रति इकाई जो भी वित्तीय लागत लगेगी उसमें 25% की सब्सिडी या अनुदान सरकार कृषक को करेगी जोकि अधिकतम ₹25000 होगा अनुसूचित जाति और जनजाति के लाभार्थियों के लिए सरकार कुल वित्तीय लागत का 33.3%, अधिकतम राशी जो कि लगभग ₹33300 है दी जाएगी

Bakri Palan Yojana CG के लिए पात्रता

  • यह योजना राज्य में रहने सभी वर्ग के लोगों के लिए है।
  • आवेदक छत्तीसगढ़ का स्थाई निवासी हो या कम से कम 5 वर्षों से इस राज्य में रह रहा हो।
  • Bakri Palan Yojana CG के अंतर्गत स्थापित कई को कम से कम 3 वर्ष तक संचालित किया जाना जरूरी है इसके लिए अनुबंध पत्र बनेगा जो कि आवेदक और विभाग बीच होगा।
  • आवेदक को बैंक से इकाई स्थापना सत्यापन प्रमाण पत्र और अनुदान विमुक्त के लिए मांग पत्र बनवाना होगा।
  • साथी आवेदक से अनुबंध प्रमाण पत्र एवं इकाई स्थापना संबंधी आवश्यक दस्तावेज होने पर ही आवेदक अनुदान हेतु पात्र होगा।
  • राज्य बकरी उद्यमिता विकास योजना के लिए संयुक्त परिवार में केवल एक ही व्यक्ति अनुदान का पात्र होगा।
  • यदि किसी भी व्यक्ति ने संयुक्त परिवार से अनुदान प्राप्त किया हो तो वहां उस दिनांक से आगे 5 वर्ष तक इस योजना के अंतर्गत दोबारा लाभ लेने के लिए आवेदन नहीं कर सकता है।

बकरी पालन अनुदान योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज।

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक की दो पासपोर्ट साइज़ फोटो
  • आवेदक का मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता पासबुक की प्रति
  • आवेदक का निवास प्रमाण पत्र या राज्य में रहने वाला 5 वर्ष तक का प्रमाण पत्र
  • बकरी पालन सब्सिडी योजना के लिए आवेदक के पहचान पत्र

छत्तीसगढ़ गोट फार्मिंग के लिए फंडिंग पैटर्न

  • ऋण/लोन के शिकार होने के लिए या वापस करने के लिए बैंक से संबंधित सभी शर्तें लागू रहेंगी जो कि ऊपर दी गई है।
  • रिजर्व बैंक समय-समय पर दिशा निर्देश जारी करता है इसके अनुसार ब्याज दर और जमानत मानदंड होंगे और साथ ही ऋण वापसी की अवधि भी निर्धारित होगी।
  • अनुदान राशि बैंक के द्वारा सब्सिडी के रूप में दी जाएगी इसके लिए बैंक अपने नियम के अनुसार लॉक इन पीरियड रख सकता है।
  • यदि इकाई की स्थापना में प्रोजेक्ट की कॉस्ट ज्यादा होती हो तो अनुदान राशि या जिसे की सब्सिडी राशि भी कहते हैं वह अधिकतम ₹100000 पर ही दे होगी।
  • प्रोजेक्ट रिपोर्ट के अनुसार प्रोजेक्ट कॉस्ट पर अनुदान राशि दे होगा जो कि सामान्य व अन्य वर्गों के अनुसार अधिकतम 25 हजार और 33300 ही होगा।

Bakri Palan CG Government Scheme Subsidy Execution Process

आइए अब जानते हैं कि इस योजना का क्रियान्वयन किस तरह से होगा इसके निम्न चरण है:-

  • योजना के अंतर्गत अनुदान के लिए आवेदक को विकासखंड सीमा के सबसे नजदीकी पशु चिकित्सा संस्थान में निर्धारित प्रपत्र के अनुसार अपना आवेदन प्रस्तुत करना होगा।
  • आवेदन पत्र को प्रस्तुत करने के पश्चात आवेदन का पंजीयन विकासखंड स्तरीय पशु चिकित्सालय संस्था में होगा।
  • उसके पश्चात इस योजना से संबंधित सहकारी क्षेत्रीय या राष्ट्रीय के तक ग्रामीण बैंक या अन्य बैंकों से ऋण की स्वीकृति होने के पश्चात पशुओं का क्रय हितकारी द्वारा स्वयं किया जाएगा।
  • यदि आवेदक के पास पहले से बकरा या बकरी है तो उनको इस योजना के अंतर्गत शामिल नहीं किया जाएगा।
  • यदि आवेदक परसों को खरीदता है तो उसके बाद उसे सत्यापन के लिए वित्त पोषक बैंक के प्रबंधक द्वारा स्वीकृति लेनी होगी।
  • समिति में स्थानीय पशु चिकित्सक आदि और विकासखंड स्तर के कृषि स्थाई समिति के सचिव सदस्य होंगे।

छत्तीसगढ़ बकरी पालन योजना 2021 आवेदन कैसे करें ?

यदि आप बकरी पालन योजना के माध्यम से स्वरोजगार शुरू करना चाहते हैं और अपनी आर्थिक हालत को सुधारना चाहते हैं तो इसके लिए आपको नीचे दिए गए चरणों का पालन करना होगा:-

  • इस योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको या आवेदक को अपने विकासखंड सीमा के नजदीकी पशु चिकित्सा संस्था में जाना होगा।
  • वहां जाकर आवेदन पत्र भर के उसे कार्यालय में जमा करना होगा।
  • आवेदन पत्र को सही तरीके से भरने के बाद इसका पंजीकरण विकासखंड स्तरीय पशु चिकित्सालय में होगा |
  • इसके बाद बैंक वो कर दी गई प्रक्रिया से आवेदन की प्रक्रिया पूर्ण होगी और बैंक योजना के माध्यम से सब्सिडी राशि आवेदकों प्रदान करेगा इस योजना के लिए। गाइडलाइन/दिशा निर्देश व आवेदन पत्र नीचे दिए गए हैं आप इनको डाउनलोड करके इनका प्रिंट आउट निकाल कर भी अपने कार्यालय में जमा कर सकते हैं।

बकरी पालन योजना छत्तीसगढ़ के लिए दिशानिर्देश डाउनलोड करें

बकरी पालन योजना छत्तीसगढ़ के लिए दिशानिर्देश डाउनलोड करें

Tags related to this article
|
Categories related to this article
Chhattisgarh Govt Scheme, Uncategorized

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top